ALL MEDICAL AND HEALTH JOBS AND CARRER ENTERTAINMENT business education UNIVERSAL SPORTS RELIGION
<मंगल पांडेय जीवनी निबंध mangal pandey life essay>
July 23, 2020 • jainendra joshi • UNIVERSAL

 

 

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में लाखों लोगों ने हिस्सा लिया किसी ने तन से किसी ने मन से किसी ने धन से अपना सब कुछ देश के

लिए निछावर कर दिया तब जाकर भारत को अंग्रेजों की दासता से छुटकारा मिला लाखों शहीदों के बीच एक नाम जो सबसे

पहले लिया जाता है उसका नाम है मंगल पांडे मंगल पांडे वह सच है जो अंग्रेजो के खिलाफ सबसे पहले बंदूक उठा कर सामने

खड़ा हुआ इससे पहले अंग्रेजों का भारत पर इस तरह मानसिक दबाव रहता था कि भारतीय यह सोच कर बैठे थे कि अंग्रेज को

हराना नामुमकिन है लेकिन एक छोटे से सिपाही ने जब अपनी जान की परवाह नहीं करते हुए अंग्रेजों के सामने बंदूक उठा ली

और गोली चला कर यह दिखा दिया कि एक भारतीय  सारी अंग्रेज सेना को डराने के लिए काफी है मंगल पांडे सबसे पहले

इतिहास में किसी व्यक्ति का  महान शख्सियत का नाम दर्ज है 18 57 का स्वतंत्रता संग्राम अंग्रेजो के खिलाफ लड़ा गया

उसकी  नीव मंगल पांडे के कारण ही पड़ी अंग्रेज इस घटना के बाद इतने चिंतित रहे कि उन्होंने भारतीयों पर हजारों तरह के

नियम कायदे लगा दिए मंगल पांडे एक साधारण ब्राह्मण परिवार में जन्म हुआ

 

मंगल पांडे का जन्म नगवा गांव जिला बलिया उत्तर प्रदेश में हुआ

भारत के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के प्रेरक के रूप में मंगल पांडे हमेशा याद किए जाते रहे हैं उनके द्वारा बताई गई क्रांति की

ज्वाला से अंग्रेज पूरी तरह से परेशान हो गए थे किस क्रांति में हालांकि काफी बड़ा अंग्रेजों को नुकसान नहीं हुआ लेकिन वह

यह समझ गए थे कि कभी भी भारतीय अब उनके खिलाफ हो सकते हैं सोच कि भारतीय गुलाम की तरह उनके साथ सदा

रहेंगे यह उनके दिमाग से बात निकल ने लगी इसीलिए उन्होंने कई कड़े नियम लगाने शुरू कर दिए अंग्रेजों ने 18 57 की

क्रांति जो मंगल पांडे द्वारा बताई गई थी हालांकि आसानी से दबा दिया लेकिन यह सभी राजा महाराजा और भारतीयों के लिए

एक शब्द के रूप में हमेशा दिमाग में रहे कि हमें अब आज़ादी  लेनी है अंग्रेजों के गुलामी अब नहीं सहनी  है मंगल पांडे ने जो

कांति के बीज बोये उसे अंग्रेजी हुकूमत साल के अंदर ही है भारत से उखड़ गई

मंगल पांडे कंपनी के अंतर्गत इन्फेंट्री में एक सिपाही 57 की क्रांति के दौरान मंगल पांडे को जन्म दिया जो आपकी तरह पूरे

उत्तर भारत और पूरे देश में फैल गया भले ही भारतीय स्वाधीनता संग्राम का निर्णय नहीं हो सका लेकिन

मंगल पांडे के पिता का नाम दिवाकर पांडे तथा माता का नाम श्रीमती अभय रानी था सामान्य ब्राह्मण परिवार में जन्म लेने के

कारण मंगल पांडे और रोजी-रोटी की मजबूरी शुरू से रही इसलिए उन्हें युवावस्था में ही नौकरी करने पर जाना पड़ा  22 साल

की उम्र में उन्होंने ब्रिटिश फौज में नौकरी शुरू की। 

ईस्ट इंडिया कंपनी की नौकरी करते वक्त भी उन्हें यह लग हमेशा लगता रहा अंग्रेजों को फूट डालो और राज करो की नीति के

तहत यहां के राजाओं की सत्ता रख रहे हैं और श्री साई धर्म के फैलाव के कारण हिंदू धर्म और अन्य जो भारतीय धर्म से उनका

नुकसान होता जा रहा था

अंग्रेजों के प्रति भारतीय जनता में भारतीय सिपाही जो अंग्रेज सेना में काम करते थे अंग्रेजों के प्रति नफरत पैदा होती जा रही थी

और मामला की है और भी बिगड़ गया जब अंग्रेजों ने नए कारतूस  का इस्तेमाल शुरू कर दिया यह माना गया कि इसमें गाय

और सुअर की चर्बी का इस्तेमाल होता है इन कांटों को बंदूक में डालने से पहले मुंह से सुनना पड़ता था भारतीय सैनिकों के

बीच ऐसी बात पहली किन कारकों में चर्बी का इस्तेमाल होता है तो वह भड़क गए उनके मन में यह बात आ गई कि अब अंग्रेज

हमारा धर्म नष्ट करना चाहते हैं क्योंकि हिंदू और मुसलमान दोनों को आपत्ति थी

 

भारतीय सैनिकों के साथ पहले ही सेना में काफी भेदभाव किया जाता था के कारण भारतीय सैनिक पहले ही काफी नाराज थे

और उनका दूसरों से जब यह अफवाह फैली तो वह भड़क गए अट्ठारह सौ सत्तावन को जब यह कारतूस बांटा गया तो मंगल

पांडे ने सबसे पहले यह कारतूस लेने से इनकार कर दिया इसके परिणाम स्वरूप उनके हथियार छीन लिए गए लेने का हुक्म

दिया गया मंगल पांडे ने आदेश को मानने से इनकार कर दिया और राइफल छीनने के लिए एक बड़े अंग्रेज अफसर मेजर 59

पर आक्रमण कर दिया

 

इस प्रकार ईस्ट इंडिया कंपनी शासन के खिलाफ मंगल पांडे ने बैरकपुर छावनी में 29 मार्च अट्ठारह सौ सत्तावन को अंग्रेजों के

विरुद्ध विद्रोह का बिगुल बजा दिया आक्रमण करने से पहले मंगल पांडे ने अपने अन्य साथियों को भी समर्थन के लिए बुलाया

और कहा कि सभी मिलकर अंग्रेजों का विरोध करो मगर डर के कारण कोई भी सैनिक  आगे नहीं आया किसी ने भी मंगल

पांडे का साथ नहीं दिया तो मंगल पांडे ने अकेले ही अपनी राइफल से उस अंग्रेज अधिकारी को मौत के घाट उतार दिया जो 

उनकी वर्दी उतारते और  राइफल छीनने के आगे आया इसके बाद मंगल पांडे ने एक और अंग्रेज अधिकारी को मौत के घाट

उतार दिया जिसके बाद अंग्रेज सिपाहियों ने मंगल पांडे को पकड़ लिया उन पर केस चलाया गया जो एक सामान्य और मल्टी

थी और मंगल पांडे को 6 अप्रैल 1857 को फांसी की सजा सुनाई गई यह फैसला हुआ कि मंगल पांडे को 18 अप्रैल को फांसी

की सजा दी जाएगी पर ब्रिटिश अधिकारी यह डर गए कि और आंदोलन न भड़क जाए इसलिए जल्दी से जल्दी मंगल पांडे को

उन्होंने फांसी पर लटकाना उचित समझा इसलिए 10 दिन पूर्व ही 8 अप्रैल को मंगल पांडे को फांसी पर लटका दिया गया

 

जैसे ही मंगल पांडे की शहीद खबर सब जगह फैली लोगों में और भारतीय सैनिकों में विद्रोह की भावना प्रबल होने लगी सभी

को एक सामान्य सिपाही द्वारा पूरे अंग्रेज फौज के सामने इस तरह से वह खड़ा हुआ वह काफी अच्छा लगा सभी इससे काफी

उत्साहित हुए और मंगल पांडे की शहादत के 10 दिन बाद ही  10 मई सन 18  57 को मेरठ की सैनिक छावनी में बगावत हुई

यह विद्रोह देखते देखते पूरे भारत में फैल गया इस बगावत और मंगल पांडे की शहादत की खबर फैलते ही अंग्रेजो के खिलाफ

जगह-जगह संघर्ष भड़क उठे इस संघर्ष में राजे रजवाड़े किसान मजदूर नवाब सभी ने भाग लिया यद्यपि अंग्रेजों ने इस विद्रोह

को दबाने में सफल रहे यह क्रांति भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की नींव के रूप में हमेशा रहे और इसके बाद अंग्रेज कभी भी

आसानी से भारत में नहीं रह सके और लंबे संघर्ष के बाद 90 साल बाद भारत को स्वतंत्र मिली। 

 

मंगल पांडे के जीवन पर काफी नाटक व फिल्म  बनी है सन 2005 में प्रसिद्ध अभिनेता आमिर खान ने मंगल पांडे द राइजिंग

फिल्म बनाई इसके निर्देशक केतन मेहता रहे सन् 2005 में ही कई प्रसिद्ध नाटक इनके के लिए बनाए गए भारत सरकार ने 

 मंगल पांडे के सम्मान में डाक टिकट जारी की है

 

स्वतंत्रता संग्राम सेनानी मंगल पांडेय की जंयती का विवाद होगा खत्म, गूगल मुख्यालय से होगी बात

उत्तर प्रदेश के मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला ने कहा कि स्वतंत्रता सेनानी मंगल पांडे की जयंती अगले साल 30 जनवरी को

लोकप्रिय वेबसाइट विकिपीडिया पर तारीख में सुधार के लिए होगी। मंत्री ने दावा किया कि वेबसाइट ने 1857 में  अंग्रेजों के

खिलाफ विद्रोह में भूमिका निभाने वाले मगल पांडे की जन्मतिथि का गलत उल्लेख किया है। मंत्री ने कहा कि उनकी जयंती

मनाने में बहुत सारी समस्याएं हैं, मंत्री ने कहा कि स्वतंत्रता सेनानी की वास्तविक जन्म तिथि 30 जनवरी, 1831 है। शुक्ला ने

कहा कि इस संबंध में दस्तावेज उनके परिवार से एकत्र किए गए हैं और राज्य के मुख्यमंत्री को बुधवार को इसकी जानकारी दी

जाएगी, जिसके बाद उनके रिश्तेदारों की ओर से एक पत्र और संबंधित कागजात विकिपीडिया को भेजे जाएंगे।

 

मंगल पांडे: द राइज़िंग

 

मंगल पांडे स्वतंत्रता सेनानी की जीवनी पर आधारित फिल्म मंगल पांडे द राइजिंग आमिर खान की बेहतरीन फिल्मों में से एक

है इस फिल्म का निर्देशन केतन मेहता जो एक डायरेक्टर है उन्होंने किया था यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर काफी हिट रही

लोगों ने इसे काफी पसंद किया कहानी 18 57 के स्वतंत्रता संग्राम की है जब भारत का एक बड़ा हिस्सा अंग्रेज शासन के

नियंत्रण में था मंगल पांडे जो फिल्म में आमिर खान बने हैं ईस्ट इंडिया कंपनी की है विलियम गार्डन के जीवन

को बचाता है क्योंकि उसने उसके जीवन की रक्षा की थी और

इसी के साथ उन दोनों की मजबूती बनती है  अंग्रेज अफसर गार्डन इस फिल्म में एक

विधवा थी ज्वाला अमीषा पटेल ने निभाया है  उसे सती  होने से बचाता है बाद में उसी के साथ प्यार करने लग जाता है रानी

मुखर्जी पांडे के बीच का आकर्षण इस फिल्म में

दिखाया गया है गार्डन और पांडे की दोस्ती में एक नई शुरुआत राइफल की  कारतूस से होती है इस बीच सैनिकों में या फैलती है

कि राइफल के कारतूस  में चर्बी है और गाय और सुअर की चर्बी से बनते हैं इसके कारण सैनिकों में काफी असंतोष हो जाता है

राइफल को लोड करने की प्रक्रिया में सैनिकों को काटना पड़ता था और यह उनके लिए काफी  गलत कार्य था क्योंकि इसमें

गाय और सुअर की चर्बी रहती थी मंगल पांडे का विरोध करते हैं आमिर खान ने इस फिल्म में काफी अच्छा रोल निभाया है और

मंगल पांडे के जीवन को जीवित जीवंत किया है इसके बाद गार्डन और मंगल पांडे के नेतृत्व में किया जाता है जिसमें मंगल पांडे

को बाद में गिरफ्तार किया जाता है